कुन्हु जोर जबरजस्ती से नि


कुन्हु जोर जबरजस्ती से नि,
माया छु तोक जदि,
कहिदे कहि हए नि जाबे देरि,
माया करे चिस् जदि,
देखिये तुई मोक लजाचिस्,
नुकाये मोर से मुस्कुराचिस्,
कहबा चाहे चिस् तुइ कुछु,
सायद! कहबा लजा चिस्,
जे मुई बुझ्नु ले कहि दिनु,
कि छु मनेर काथा;
तुई भि कहि दे नि तुई लजाये,
कि हए साच्चा ?

0 comments:

Post a Comment